Saturday, December 31, 2016

"नववर्ष मंगलमय हो"


                  नववर्ष के शुभ आगमन पर,
                  शुभकामनाएं हैं हमारी।
                  मंगलमय जीवन हो सबका,
                  प्रेममय दुनिया हो सारी।
                  हवा सुखमय मधुर महके,
                  हरितिमा अपनी धरा हो।
                  खुशनुमा  आकाश अपना,
                  स्वर्ग सा संसार हो।
                  नववर्ष ऐसा मंगलमय हो।
        
                 आशाओं के अबुझ दीपक,
                 अब जले हर इक सदन में।
                 उम्मीदों की किरण लेकर, 
                 रवि आना तुम प्रत्येक मन में।
                 ज्योतिर्मय हर -इक भुवन हो
                 नववर्ष ऐसा मंगलमय हो।
     
                 मनोबल यों उठे ऊँचा,
                अडिग विश्वास हो मन में।
                अंत:करण प्रकाशित हो सबका,
                ऊर्ध्वमुखी जीवन हो।
                "सुप्त देवत्व" जगे मनुज का,
                 देवशक्ति प्रबल हो,
                 नववर्ष ऐसा मंगलमय हो।
  
                अनीति मुँह छिपा जाए,
                प्रबलता नीति में आये।
                श्रेष्ठ चिन्तन आचरण से,
                विश्व की गरिमा बढाएं,
                गरिमामय जग हो
                नववर्ष मंगलमय हो।



Friday, December 23, 2016

"तुम हो हिन्दुस्तानी"

  प्यारे बच्चों ! दुनिया में तुम नया सवेरा लाना,
       जग में नाम कमाना ,कुछ नया-सा कर के दिखाना।
         फैली तन्हाई, अब तुम ही इसे मिटाना,
            ऐसा कुछ कर जाना..
  गर्व करें हर कोई तुम पर "तुम हो हिन्दुस्तानी"।
     
क्षितिज का तुम भ्रम मिटाना,
         ज्ञान की ऐसी ज्योति जगाना।
            धरा आसमां एक बनाकर,
               सारे भेद मिटाना....
                कुछ ऐसा करके दिखाना,
 गर्व  करें हर कोई तुम पर "तुम हो हिन्दुस्तानी"।

  अन्धकार मे भी प्रकाश सा उजियारा हो,
        सत्य घोष हो हर तरफ जय का नारा हो।
          जाति-पाँति का फर्क मिटाकर,
             सबको एक बनाना..
   ये दुनिया जाने तुमको कि"तुम हो हिन्दुस्तानी"।

  दुखियों  का दु:ख तुम्हें है हरना,
       भूखों की तुम भूख मिटाना।
           भटके राही को राह दिखाकर,
               मंजिल तक ले जाना....।
                  ऐसा कुछ करके दिखाना
    नाज करे ये देश भी तुम पर "तुम हो हिन्दुस्तानी"।
 
   अन्न-धन की कहीं कमी न रह जाए,
       मानवता के सब अधिकार सभी पाएं
        अबला बनकर रहे न कोई, नारी शक्ति बढाना,
            देश को नयी दिशा दिखाकर ,
              आगे तक ले जाना..
     ये दुनिया जाने तुमको कि"तुम हो हिन्दुस्तानी"।

   सबको रोजगार मिल जाए,
          हर घर में खुशहाली आए।
            दीन-अमीरी भेद हटाकर,
             भ्रष्टाचार मिटाना...।
               ऐसा कुछ कर जाना,
    गर्व करे हर कोई तुम पर "तुम हो हिन्दुस्तानी"।

होनहार ही प्रतिनिधित्व करे देश का सारा,
       सभी राजनीतिक दलों से मिले छुटकारा।
          काले धन की चर्चा फिर से कभी न लाना
             ऐसे लुटेरों से तुम अपना देश बचाना।
                 कुछ ऐसा करके दिखाना....
   कि गर्व करे हर कोई तुम पर"तुम हो हिन्दुस्तानी"।।

           

Saturday, December 3, 2016

बच्चों के मन से

 

      

               माँ! तुम ऐसे बदली क्यों?
               मेरी प्यारी माँ बन जाओ,
               बचपन सा प्यार लुटाओ यों
               माँ तुम ऐसे बदली क्यों?
                             
                             
              बचपन में गिर जाता जमीं पर,
              दौड़ी- दौड़ी आती थी।
              गले मुझे लगाकर माँ तुम,
              प्यार से यों सहलाती थी।
              चोट को चूम चूम कर ,
              मुझको यों तुम मनाती थी।
             और जमीं को डाँट-पीटकर
              सबक सही सिखाती थी।
      
              अब गिर जाता कभी कहीं पर,
              चलो सम्भल कर, कहती क्यों।
              माँ ! तुम  ऐसे बदली क्यों?
       
      
               जब छोटा था बडे प्यार से,
               थपकी देकर सुलाती थी।
               सही समय पर खाओ-सोओ,
               यही सीख सिखलाती थी।
               अब देर रात तक जगा-जगाकर,
               प्रश्नोत्तर याद कराती क्यों?
               माँ! तुम ऐसे बदली क्यों?
       
       
               सर्दी के मौसम में मुझको,
               ढककर यों तुम रखती थी।
               देर सुबह तक बिस्तर के,
              अन्दर रहने को कहती थी।
              अब तडके बिस्तर से उठाकर,
               सैर कराने ले जाती क्यों?
               फिर जल्दी से सब निबटा कर,
               स्कूल जाओ कहती क्यों?
               माँ तुम ऐसे बदली क्यों?
     
              आज को मेरा व्यस्त बनाकर,
              कल को संवारो कहती क्यों?
               माँ! तुम ऐसे बदली क्यों?


Friday, November 18, 2016

राजनीति और नेता


       

     आज मेरी लेखनी ने राजनीति की तरफ देखा,
 आँखें इसकी चौंधिया गयी मस्तक पर छायी गहरी रेखा।
                                                                               
   संसद भवन मे जाकर इसने नेता देखे बडे-बडे,
 कुछ पसरे थे कुर्सी पर ,कुछ भाषण देते खडे-खडे।
                     
          कुर्सी का मोह है ,शब्दों में जोश है,
 विपक्ष की टाँग खींचने का तो इन्हें बडा होश है।
                
    लकीर के फकीर ये,और इनके वही पुराने मुद्दे,
        बहस करते वक्त लगते ये बहुत ही भद्दे

  काम नहीं राम मंदिर की चर्चा इन्हें प्यारी है,
  शुक्र है इतना कि अभी मोदी जी की बारी है।
                                        
     मोदी जी का साथ है,देश की ये आस है।
     कुछ अलग कर रहे हैं,और अलग करेंगें,
              यही हम सबका विश्वास है।
                                   
   लडखडाती अर्थव्यवस्था की नैया को पार लगाना है
विपक्ष को अनसुना कर मोदी जीआपको देश आगे बढाना है।
                                                              (सुधा देवरानी)

Tuesday, November 15, 2016

प्रकृति की रक्षा ,जीवन की सुरक्षा

      



उर्वरक धरती कहाँ रही अब?
सुन्दर प्रकृति कहाँ रही अब ?
कहाँ रहे अब हरे -भरे  वन?
ढूँढ रहा है जिन्हें आज मन
                          तोड़ा- फोड़ा इसे मनुष्य ने,
                           स्वार्थ -सिद्ध करने  को  ।
                           विग्यान का नाम दे दिया ,  
                           परमार्थ सिद्ध करने को ।।
  सन्तुलन बिगड़ रहा है,
 अब भी नहीं जो सम्भले।
  भूकम्प,बाढ,सुनामी तो
  कहीं तूफान  चले।
  बर्फ तो पिघली ही,
  अब ग्लेशियर भी बह निकले।
  तपती धरा की लू से,
  अब सब कुछ जले।
                     विकास कहीं विनाश न बन जाये,
                      विद्युत आग की लपटों में न बदलजाए
                      संभल ले मानव संभाल ले पृथ्वी को,
                      आविष्कार तेरे तिरस्कार न बन जायें।।
कुछ कर ऐसा कि,
सुन्दर प्रकृति शीतल धरती हो।
हरे-भरे वन औऱ उपवन हों।
कलरव हो पशु -पक्षियों का,
वन्य जीवों का संरक्षण हो।।
                         प्रकृति की रक्षा ही जीवन की सुरक्षाहै।
                          आओ इसे बचाएं जीवन सुखी बनाएं।।

Friday, November 4, 2016

माँ ! तुम सचमुच देवी हो......









किस मिट्टी की बनी हो माँ?
क्या धरती पर ही पली हो माँ !?
या देवलोक की देवी हो,
करने आई हम पर उपकार।
माँ ! तुम्हें नमन है बारम्बार!
                                सागर सी गहराई तुममें,
                                आसमान से ऊँची हो।.
                                नारी की सही परिभाषा हो माँ !
                                सद्गुणों की पूँजी हो।
जीवन बदला, दुनिया बदली,
हर परिवर्तन स्वीकार किया।
हर हाल में धैर्य औऱ साहस से,
निज जीवन का सत्कार किया।।
                                  सारे दुख-सुख दिल में रखकर,
                                  तुम वर्तमान में जीती हो...
                       .          खुशियां हम सब को देकर के माँ !
                                  खुद चुपके से गम पीती हो।
अच्छा हो या बुरा हो कोई,
माँ !  तुम सबको अपनाती हो।
दया और क्षमा देकर तुम,
सहिष्णुता सिखलाती हो।।
                                जब छोटे थे मातृत्व भरी,
                                ममता से सींचा हमको।
                                जब बडे हुए तो दोस्त बनी, माँ  !
                                पग-पग का साथ दिया हमको।।
फिर पापा बन मुश्किल राहों में,
चलना हमको सिखलाया।
जब घर लौटे तो गृहस्थी का भी,
पाठ तुम्हीं ने बतलाया।।
                                थके हारे जब हम जीवन में,
                               आशा का दीप जलाया तुमने। 
                                प्रकाशित कर जीवन की राहें,
                                जीने का ज़ोश जगाया तुमने।।
प्रेरणा हो तुम,प्रभु का वर हो।
किन पुण्यों कि फल हो माँ !?
जीवन अलंकृत करने वाली,
शक्ति एक अटल हो माँ !   ।
                                आदरणीय हो,पूज्यनीय हो।
                                 तुम सरस्वती ,लक्ष्मी हो माँ !
                                 मेरे मन-मन्दिर में बसने वाली
                                 तुम सचमुच देवी हो माँ !!    ।।
                                                       -सुधा देवरानी

Saturday, September 17, 2016

आइना---समाज का।।

प्रस्तुत आलेख कोई कहानी या कल्पना नहीं, अपितु सत्य घटना है........


आज walking पर काफी आगे निकल गयी,road के पास बने stop की बैंच पर बैठ गयी, थोडा सुस्ताने के लिए। तभी सिक्योरिटी गार्ड को किसी पर गुस्सा करते हुए सुना, एक दो लोग भी वहाँ इकट्ठा होने लगे ।मैं भी आगे बढी, देखा एक आदमी बीच रोड पर लेटा है, नशे की हालत में।गार्ड उसे उठाने की कोशिश कर रहा है,गुस्से के साथ। तभी एक अधेड़ उम्र की महिला ने आकर गार्ड के साथ उस आदमी को उठाया और किनारे ले जाकर गार्ड का शुक्रिया किया। नशेडी शायद उस महिला का पति था। थोडा आँखें खोलते हुए,महिला के हाथ से खुद को छुडाते हुए, चिल्ला कर बोला,"मैं घर नहीं आउँगा"।........ ओह!तो ये जनाब घर के गुस्से में पीकर आये हैं; सोच कर मैने नजरें फेर ली, फिर वहीं जाकर बैठ गयी, थोड़ी देर बैठने के बाद वापस घर के लिए चल दी।
रास्ते मे पुल पर खडी वही महिला गुस्से मे बडबडा रही थी,गला रूँधा हुआ था, चेहरे पर गुस्सा, दु:ख और चिंता......वह बडी परेशानी से पुल से नीचे की तरफ देख रही थी, एक हाथ से सिर पर रखे पल्लू को पकडे थी ,जो सुबह की मन्द हवा के झोंके से उडना चाहता था, महिला पूरी कोशिश से पल्लू संभाले थी जैसे वहाँ पर उसके ससुरजी हों.............।
मैंने भी नीचे झाँका,तारबाड के पीछे ,खेतों से होते हुये  नदी की तरफ,वही आदमी लडखडाती चाल से चला  जा रहा है,बेपरवाह,अपनी ही धुन में,....।उसे देखकर लगता था जाने कब गिर पडेगा, वह खेतों को लाँघकर नीचे नदी की तरफ जा रहा था, महिला उसे वापस आने को कह रही थी,कभी कहती "जो हुआ छोड दो,माफ कर दो, मान लिया मैंने ये सब मेरी ही गलती है, माफ कर दो ,घर आ जाओ........"लेकिन वह तो रुका ही नहीं।अब महिला गुस्से मे"जा - जा,कभी मत आ मेरी बला से ,मै तो जा रही हूँ,बच्चे परेशान हो रहे होंगे" कहते हुए आगे बढी,कुछ इस तरह कि उसे दिखाई न दे। शायद मन मे सोची होगी कि उसे न देख कर शायद वह वापस आ जाय।
वापस आने के बजाय वह तो नीचे खेत मे जाकर घास पर लम्बा होकर लेट गया ।  अब महिला से न रहा गया,शायद वह डर रही थी कि कहीं उसे कुछ हो न जाय, कहीं घास में साँप............या फिर वह नदी मे खुद के साथ कुछ................ ।बेचारी तारबाड लाँघकर वहीं चली गयी उसे लेने....लेने की कोशिश करने, वैसे ही बडबडाती हुई, मैं ज्यादा वहाँ रुक नही पाई बोझिल मन घर की तरफ लौटी,मन चाहता था,महिला से कहूँ वह घर जाए, नशा उतरने पर वो भी आ जायेगा....पर कैसे ? एक पत्नी से ये सब कैसे कहूँ? क्या वह ऐसा कर पायेगी? शायद नही, जो सिर के पल्लू को उडने के लिए नही छोड़ सकती, वह अपने पति को उसके हाल पर कैसे छोड़ सकती है............    ।                                                                                                          

Friday, September 9, 2016

प्रकृति का संदेश


हरी - भरी धरती नीले अम्बर की छाँव
प्रकृति की शोभा बढाते ये गाँव।
सूर्य चमक कर देता खुशहाली का सन्देश,
हवा महककर बोली मै तो घूमी हर देश।।

चँदा ने सिखाया देना सबको नया उजाला,
तारे कहते गीत सुनाओ सबको मस्ती वाला।
देना सीखो ये ही तो  है प्रकृति का सन्देश,
हवा महक कर बोली मैं तो घूमी सब देश।।


जीवन की जरूरत पूरी करते ये बृक्ष हमारे,
बिन इनके तो अधूरे हैं जीवन के सपने सारे।
धरती की प्यास बुझाना नदियों का लक्ष्य -विशेष,
हवा महक कर बोली मै तो घूमी सब देश।।

देखो आसमान ने पूरी, धरती को ढक डाला है,
धरती ने भी तो सबको ,माँ जैसा सम्भाला है।
अपनेपन  से सब रहना, ये है इनका सन्देश,
हवा महक कर बोली मैं त़ो घूमी सब देश।