शनिवार, 5 नवंबर 2016

माँ ! तुम सचमुच देवी हो......









किस मिट्टी की बनी हो माँ?
क्या धरती पर ही पली हो माँ !?
या देवलोक की देवी हो,
करने आई हम पर उपकार।
माँ ! तुम्हें नमन है बारम्बार!
                                सागर सी गहराई तुममें,
                                आसमान से ऊँची हो।.
                                नारी की सही परिभाषा हो माँ !
                                सद्गुणों की पूँजी हो।
जीवन बदला, दुनिया बदली,
हर परिवर्तन स्वीकार किया।
हर हाल में धैर्य औऱ साहस से,
निज जीवन का सत्कार किया।।
                                  सारे दुख-सुख दिल में रखकर,
                                  तुम वर्तमान में जीती हो...
                       .          खुशियां हम सब को देकर के माँ !
                                  खुद चुपके से गम पीती हो।
अच्छा हो या बुरा हो कोई,
माँ !  तुम सबको अपनाती हो।
दया और क्षमा देकर तुम,
सहिष्णुता सिखलाती हो।।
                                जब छोटे थे मातृत्व भरी,
                                ममता से सींचा हमको।
                                जब बडे़़ हुए तो दोस्त बनी, माँ  !
                                पग-पग का साथ दिया हमको।।
फिर पापा बन मुश्किल राहों में,
चलना हमको सिखलाया।
जब घर लौटे तो गृहस्थी का भी,
पाठ तुम्हीं ने बतलाया।।
                                थके हारे जब हम जीवन में,
                               आशा का दीप जलाया तुमने। 
                                प्रकाशित कर जीवन की राहें,
                                जीने का ज़ोश जगाया तुमने।।
प्रेरणा हो तुम,प्रभु का वर हो।
किन पुण्यों कि फल हो माँ !?
जीवन अलंकृत करने वाली,
शक्ति एक अटल हो माँ !   ।
                                आदरणीय हो,पूज्यनीय हो।
                                 तुम सरस्वती ,लक्ष्मी हो माँ !
                                 मेरे मन-मन्दिर में बसने वाली
                                 तुम सचमुच देवी हो माँ !!    ।।
                                                       -सुधा देवरानी
एक टिप्पणी भेजें